किसी को दलित ना कहा जाए सब सनातनी हैं सब हिंदू हैं : श्री श्री 1008 दलित महामंडलेश्वर शिवानंद गिरि जी

0
126
चंडीगढ़, राधाजी न्यूज़, (पुनीत सैनी)। इस पंगत में हिंदू धर्म की अलग-अलग जातियों, जिसमें दलित भी शामिल थे ,के  युवा साधु शिष्यों ने  शिरकत की और ये संदेश दिया  कि देश में किसी को दलित ना कहा जाए, सब सनातनी हैं और किसी भी जाति का युवा हिंदू धर्म और सनातन से जुड़ी शिक्षा लेकर साधु बन सकता है और समाज में फैले दलित भेदभाव को खत्म करने का संदेश दिया।
मंदिरों में भगवान वाल्मीकि की मूर्ति भी लगाई जाए, ये प्रयास भी इस पंगत के साथ शुरू होगा।
13 अखाड़ों के प्रतिनिधि जूना अखाड़ा के जगद्गुरु पंचानंद गिरी महाराज का प्रयास है कि सनातन हिंदू धर्म के प्रचार और प्रसार के लिए हर जाति के युवा सामने आए और हिंदू धर्म की शिक्षा लेकर धर्म का प्रचार करें।
जगद्गुरु पंचानंद गिरी महाराज का मानना है कि हिंदू धर्म की तमाम जातियां एक समान है और कोई दलित या क्षुद्र भी हिंदू धर्म का साधु या विद्वान बन सकता है। यही संदेश देने के लिए जगद्गुरु पंचानंद गिरी महाराज बतौर देश के 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि के तौर पर आपको इस पंगत (सामूहिक भोजन) में मीडिया कवरेज के लिए आमंत्रित करते हैं।
जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर जगद्गुरु पंचानंद गिरी राजनीतिक पार्टियों पर नाराज दिखाई दिए, उन्होंने कहा की ईश्वर ने तो कोई जाति नाहजन बनाई फिर ये भेद भाव क्यों
जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर जगद्गुरु पंचानंद गिरी राजनीतिक पार्टियों पर नाराज दिखाई दिए, उन्होंने कहा की ईश्वर ने तो कोई जाति नाहजन बनाई फिर ये भेद भाव क्यों ,  गिरी ने राजनीतिक पार्टियों पर दलितों और छोटी जातियों के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि समाज में बराबरी लाने के लिए दलित शब्द को ही खत्म करना होगा और सनातन हिंदू धर्म से भी दलित और अन्य जातियों को लेकर भेदभाव को पूरी तरह समाप्त करना होगा। महामंडलेश्वर पंचानंद गिरी के साथ इस मौके पर देश के पहले दलित महामंडलेश्वर शिवानंद गिरि भी मौजूद रहे। दोनों संतों ने आरोप लगाया कि राजनीतिक पार्टियों ने समय-समय पर जातिगत भेदभाव का फायदा उठाकर अपने मंसूबे पूरे किए लेकिन असल में छोटी जातियों को समाज की मुख्यधारा में लाने को लेकर कोई भी गंभीर नहीं है। दोनों संतों ने कहा कि अब सनातन हिंदू धर्म के 13 अखाड़े मिलकर हिंदू धर्म में फैले इस जातिवाद और भेदभाव को खत्म करेंगे और दलितों को भी हिंदू धर्म में पूरा सम्मान दिया जाएगा और हिंदू धर्म की मुख्य पदवियों पर दलितों को भी जगह दी जाएगी। इस मौके पर संतों ने कहा कि  चाहे BJP हो या कांग्रेस, दोनों को ही  दलित जातियों से सिर्फ वोटों को लेकर मतलब है। इसके अलावा दलितों और छोटी जातियों के सरोकार से किसी भी राजनीतिक पार्टी का कुछ भी लेना देना नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 + 4 =