महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्स हमला, 15 जवान शहीद।

0
151

राधाजी न्यूज़। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों ने एक बार फिर कमांडो पर हमला किया है इस हमले में 15 जवान शहीद हो गए है। नक्सलियों द्वारा किए गए आईईडी ब्लास्ट में क्विक रिस्पॉन्स टीम को ले जा रहा वाहन चपेट में आ गया था। इस हमले में निजी बस का ड्राइवर भी मारा गया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने इस हमले में शहीद जवानों के प्रति शोक प्रकट किया है और कहा है कि हमले के साजिशकर्ता को बख्शा नहीं जाएगा। राज्य के सीएम देवेंद्र फडणवीस डीजीपी और गढ़चिरौली के एसपी के संपर्क में हैं।
बता दें कि कुरखेड़ा तहसील के दादापुरा गांव में नक्सलियों ने 36 वाहनों को आग लगा दी थी, उसके बाद क्विक रिस्पॉन्स टीम के कमांडो घटनास्थल के लिए रवाना हुए थे। ये कमांडो नक्सलियों का पीछा करते हुए जंबुखेड़ा गांव की एक पुलिया पर पहुंचे, जहां नक्सलियों ने विस्फोट के जरिए जवानों पर हमला कर दिया गढ़चिरौली में यह धमाका घने जंगलों के बीच हुआ है। धमाके के बाद पुलिस और नक्सलियों के बीच फायरिंग भी हुई। अभी इलाके में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में शांति पूर्ण और बढ़-चढ़कर हो रहे मतदान से नक्सली भड़के हुए थे, जिसके चलते उन्होंने आईईडी ब्लास्ट को अंजाम दिया। इससे पहले महाराष्ट्र दिवस के मौके पर गढ़चिरौली में ही नक्सलियों ने निजी ठेकेदारों के तीन दर्जन वाहनों को आग लगा दी थी।

नक्सल खतरों को ध्यान में रखते हुए 1992 में सी-60 फोर्स तैयार की गई थी। इसमें पुलिस फोर्स के 60 जवान शामिल होते हैं। यह काम गढ़चिरौली के तब से एसपी के.पी. रघुवंशी ने किया था। सी-60 में शामिल पुलिसवालों को गुरिल्ला युद्ध के लिए भी तैयार किया जाता है। इनकी ट्रेनिंग हैदराबाद, बिहार और नागपुर में होती है। इस फोर्स को महाराष्ट्र की उत्कृष्ट फोर्स माना जाता है। रोजाना सुबह खुफिया जानकारी के आधार पर यह फोर्स आसपास के क्षेत्र में ऑपरेशन को अंजाम देती है। सी-60 के जवान अपने साथ करीब 15 किलो का भार लेकर चलते हैं, जिसमें हथियार के अलावा, खाना, पानी, फर्स्ट ऐड और बाकी सामान शामिल होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × two =