श्रीनिवासा फर्म्स और हाई-लाइन इंटरनेशनल ने उत्तर भारत में किया प्रवेश।

0
111

चंडीगढ़, (पुनीत सैनी)। श्रीनिवासा फर्म्स, पोल्ट्री ब्रीडिंग में इंडस्ट्री अग्रणी ने उत्तर भारत में लेयर पोल्ट्री जेनेटिक्स में वैश्विक अग्रणी, हाई-लाइन इंटरनेशनल के साथ अपनीरणनीतिक साझेदारी के विस्तार कीघोषणा की। इस साझेदारी के माध्यम से श्रीनिवासा समूहपूरे भारत में हाई-लाइन कमर्शियल लेयर्स का विस्तृत वितरण करेगा।

श्रीनिवासाफाम्र्स ने जून 2017 मेंदक्षिण भारत में हाई-लाइन इंटरनेशनल के साथ एकरणनीतिक साझेदारी में प्रवेश किया और ये प्रयास काफी सफल साबित हो रहा है।इस साझेदारी को उत्कृष्ट ग्राहक सेवा और दक्षिण में तकनीकी सहायता के माध्यम सेसफलता के परिणाम औरधडक़न के प्रदर्शन मानकों को देखा जा रहा है।श्रीनिवासा फाम्र्स एंड हाई-लाइन इंटरनेशनल अब उत्तर भारत में इस संघ काविस्तार करने के लिए तैयार है, जिसका लक्ष्य बड़ी सफलता है।

भारतमें पोल्ट्री उद्योग का आकार लगभग 100,000 करोड़ रुपए का है औरअगले कुछ वर्षों में 8-10 प्रतिशत की दर से बढऩे की उम्मीद है। यह क्षमता बहुतअधिक है जब कोई इस तथ्य पर विचार करताहै कि जापान जैसे देश की तुलना में भारत में प्रति व्यक्ति सिर्फ 65 अंडों की खपत होतीहै जहां यह प्रति व्यक्ति खपत 330 अंडे है।

इस साझेदारी की प्रासंगिकता सिर्फएक व्यावसायिक सहभागिता से बहुत बड़ी है-इसमें भारत की बढ़ती आबादीको एनीमल प्रोटीन के एक किफायती स्रोत के साथ खिलानेके लिए आनुवंशिक रूप से बेहतर हाई-लाइन लेयर्स के उपयोग की विशाल क्षमता है।

श्रीनिवासाने गुणवत्ता, स्वच्छता और दक्षता केअंतरराष्ट्रीय मानकों को अपनाते हुएदेश की सर्वश्रेष्ठ पोल्ट्रीब्रीडिंग कंपनियों में से एक होने की प्रतिष्ठा अर्जित की है औरहाई-लाइन के साथ यहसाझेदारी यह सुनिश्चित करेगी कि वे सभी तरह से पर इस बाजार में अग्रणी हैं।

चीन, अमेरिका और भारत दुनियाके शीर्ष तीन लेयर्स निर्माता हैं। चीन और अमेरिका मेंहाई-लाइन एक प्रमुख कंपनी के तौर पर कार्यरत है, लेकिन भारत में इसकी सीमित उपस्थिति है। इस नई रणनीतिकसाझेदारी के साथ, श्रीनिवासा समूह जैसे स्थापित और विश्वसनीय भागीदारके माध्यम से, कुछ ही समय मेंदुनिया की तीसरी सबसे बड़ी लेयर बाजार में शीर्ष लेयर ब्रीड बन सकती है।

श्रीसुरेश चित्तूरी, वाइस चेयरमैन और प्रबंध निदेशक, श्रीनिवासा हैचरीज ग्रुप ने बताया कि ‘‘हम एक संगठन केरूप में पिछले कुछ वर्षों में लगातार कई गुणा तरक्कीकर रहे हैं और इसके साथही हाई-लाइन के साथ रणनीतिकसाझेदारी बना रहे हैं। मुझे यकीन है कि हाई-लाइन जैसे वैश्विक प्रमुख के साथ हाथमिलाने से हम भारतीय उपभोक्ता को अंतरराष्ट्रीय गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान कर सकेंगे। इसके अलावा आनुवांशिक रूप से सुधरी हुईहाई-लाइन लेयर बर्ड को भारतीय किसानोंको बेचने के लिए एकविशेष लाइसेंस प्राप्त करने के अलावा, कंपनीहाई-लाइन लेयर बर्ड्स के ब्रीडिंग फार्मोंको स्थापित करने के लिए भी एक संयुक्त उपक्रम में सहभागिता कर रही है।लेयर बर्ड व्यवसाय देश में उच्च विकास क्षमता रखता है और उम्मीदहै कि अगले चार-पांच वर्षों में इसका आकार 500+ मिलियन बर्ड्स के करीब होसकता है।’’ चित्तूरी ने कहा किभारत में प्रति व्यक्ति वार्षिक खपत वर्तमान 65 अंडों के स्तर सेचार गुना बढऩे की उम्मीद है।

श्रीजोनाथन केड, प्रेसिडेंट, हाई-लाइन इंटरनेशनल ने कहा कि ‘‘श्रीनिवासा समूह के साथ साझेदारी के माध्यम से भारत कीबढ़ती आबादी को प्रोटीन काएक सस्ता स्रोत खिलाने के लिए हमें आनुवंशिक रूप से बेहतर हाई-लाइन लेयर्स की विशाल क्षमता दिखाई देती है, जैसा कि हमने सहभागिता के लिए उपयुक्त पाया है क्योंकि उन्हेंंपोल्ट्री प्रबंधन का समृद्ध अनुभवहै। दक्षिण भारत में हमारी सफलता हमारी प्रतिबद्धता और गुणवत्ता प्रदान करने का प्रमाण है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven + 19 =